Autho Publication
Author's Image

by

Pavitra Mohan

View Profile

Pre-order Price

199.00

Includes

Author's ImagePaperback Copy

Author's ImageShipping

Pre-Order Now

Love and Desire

प्रेम वा कामना

Love and Desire

प्रेम प्रेम सब कोई करे प्रेम न जाने कोए
आठ पहर बहता रहे प्रेम कहावे सोय।

Everyone talks of it but no one knows love

What flows forever and ever is love..

रात आधी खींच कर मेरी हथेली
एक उंगली से लिखा था प्यार तुमने।

फ़ासला था कुछ हमारे बिस्तरों में
और चारों ओर दुनिया सो रही थी।
तारिकाऐं ही गगन की जानती हैं
जो दशा दिल की तुम्हारे हो रही थी।
मैं तुम्हारे पास होकर दूर तुमसे
अधजगा सा और अधसोया हुआ सा।
रात आधी खींच कर मेरी हथेली
एक उंगली से लिखा था प्यार तुमने।

एक बिजली छू गई सहसा जगा मैं
कृष्णपक्षी चाँद निकला था गगन में।
इस तरह करवट पड़ी थी तुम कि आँसू
बह रहे थे इस नयन से उस नयन में।
मैं लगा दूँ आग इस संसार में
है प्यार जिसमें इस तरह असमर्थ कातर।
जानती हो उस समय क्या कर गुज़रने
के लिए था कर दिया तैयार तुमने!
रात आधी खींच कर मेरी हथेली
एक उंगली से लिखा था प्यार तुमने।

प्रात ही की ओर को है रात चलती
औ उजाले में अंधेरा डूब जाता।
मंच ही पूरा बदलता कौन ऐसी
खूबियों के साथ परदे को उठाता।
एक चेहरा सा लगा तुमने लिया था
और मैंने था उतारा एक चेहरा।
वो निशा का स्वप्न मेरा था कि अपने
पर ग़ज़ब का था किया अधिकार तुमने।
रात आधी खींच कर मेरी हथेली
एक उंगली से लिखा था प्यार तुमने।

और उतने फ़ासले पर आज तक
सौ यत्न करके भी न आये फिर कभी हम।
फिर न आया वक्त वैसा
फिर न मौका उस तरह का
फिर न लौटा चाँद निर्मम।
और अपनी वेदना मैं क्या बताऊँ।
क्या नहीं ये पंक्तियाँ खुद बोलती हैं?
बुझ नहीं पाया अभी तक उस समय जो
रख दिया था हाथ पर अंगार तुमने।
रात आधी खींच कर मेरी हथेली

 

 

Night half had passed,

You drew my hand,

And with a finger, wrote Love

 

The world was sleeping around us,

And our beds were a bit apart,

Stars of the sky only knew the state of your heart,

So near was I, yet so far, half awake and half asleep

 

Night half had passed,

You drew my hand,

And with a finger, wrote Love

 

With a touch of lightning I woke up, the crescent moon rose in the western sky

You were lying on your side, tears flowing to the other eye

I would set this world on fire, love where is stifled, tied

You know, you had prepared me to go any miles that night

 

Night half had passed,

You drew my hand,

And with a finger, wrote Love

 

The night merges in the day, and in daylight the darkness drowns

Entire stage changes in a moment, who so masterly the curtains draws?

That night, I removed a face and you put on one, my sweet dame

Was that my dream, or asserted you on yourself, your claim?

 

Night half had passed,

You drew my hand,

And with a finger, wrote Love

 

At that distance, much we tried,

Never ever we reached again,

A time like that, nor the chance,

Came back ever again,

The cruel moon never returned again,

And how do I speak of my feelings,

Do these lines not express my pain?

The ember you placed on my hand when we met

Continues to burn on yet

 

Night half had passed,

You drew my hand,

And with a finger, wrote Love

-        Harivansh Rai Bacchan

(2)

अंपने हलके-फुलके उड़ते स्पर्शों से मुझको छू जाती है
जार्जेट के पीले पल्ले-सी यह दोपहर नवम्बर की !

आयी गयी ऋतुएँ पर वर्षों से ऐसी दोपहर नहीं आयी
जो क्वाँरेपन के कच्चे छल्ले-सी 
इस मन की उँगली पर 
कस जाये और फिर कसी ही रहे 
नित प्रति बसी ही रहे, आँखों, बातों में, गीतों में
आलिंगन में घायल फूलों की माला-सी 
वक्षों के बीच कसमसी ही रहे 

भीगे केशों में उलझे होंगे थके पंख 
सोने के हंसों-सी धूप यह नवम्बर की 
उस आँगन में भी उतरी होगी 
सीपी के ढालों पर केसर की लहरों-सी 
गोरे कंधों पर फिसली होगी बन आहट 
गदराहट बन-बन ढली होगी अंगों में 

आज इस वेला में 
दर्द में मुझको 
और दोपहर ने तुमको 
तनिक और भी पका दिया 
शायद यही तिल-तिल कर पकना रह जायेगा 
साँझ हुए हंसों-सी दोपहर पाँखें फैला 
नीले कोहरे की झीलों में उड़ जायेगी
यह है अनजान दूर गाँवों से आयी हुई 
रेल के किनारे की पगडण्डी 
कुछ क्षण संग दौड़-दौड़ 
अकस्मात् नीले खेतों में मुड़ जायेगी...


Caresses me lightly

Like a fleeting touch of a yellow georgette pallu,

This warm afternoon of November


Seasons have come and gone,

but for years has eluded such an afternoon

That stays ensconced day after day,

in the eyes, in those whispers, in songs.

Like stays a garland of many roses,

pressed by an embrace intimate,

dishevelled on her breasts.

Trapped in her wet tresses

like feathers of the golden bird.

 

This warm sunshine of November

would have descended in her courtyard

like the saffron waves on the slopes of sea-shells

Like a whisper, would have slipped on her fair shoulders

Becoming desire, would have seeped in her limbs.

 

This afternoon, pain is singeing me slowly,

And this sunshine is singeing you too

Maybe burning slowly is our destiny.

Come evening, unfolding its wings,

Sunshine would fly away to the lakes of blue mist,

Leaving behind the warmth and scalds on our tired limbs,

And memories endless of that torrid, warm November afternoon.

-        Dharmvir Bharti

(I have taken liberty with the last stanza, and changed the lines in translation)