Autho Publication
BTfwvG306HBEk8Qa8YPZbxPAoF2buRZK.jpeg
Author's Image

by

प्रियमSri (Priyam)

View Profile

Pre-order Price

199.00

Includes

Author's ImagePaperback Copy

Author's ImageShipping

Pre-Order Now

ख्वाहिशें चाँद की- मेरे ख़्वाब औऱ हकीक़त की जुगलबंदी

Share Icon Icon
Heart Poetry Read 14 Reads

ख्वाहिशें चाँद की- मेरे ख़्वाब औऱ हकीक़त की जुगलबंदी, एक ऐसी कविता (छोटी और बड़ी) संग्रह है जो कवि के ख्वाब (कवि की जो प्रेरणा है उससे मिलने के पहले की) और हक़ीक़त (जो अभी वर्तमान में है) उन दोनों की जुगलबंदी को लिखी गयी है. कवि की सोच उस प्रेरणा से मिलने की पहले की क्या थी, वो क्या सोचता था, क्या समझता था, और जब से वो (कवि की प्रेरणा) मिली, तब से कवि का ख्वाब हक़ीक़त में बदलने की एक कोशिश और फिर उन सारी कोशिशों के बीच एक हर दिन कुछ ना कुछ लिखना और फिर उसे संग्रहित करके उसे एक किताब में प्रवर्तित करने की छोटी सी प्रयास है ये किताब. ये कविता संग्रह एक खूबसूरत लड़की की खूबसूरती को और खूबसूरत बनाती है, जिससे कवि आजतक मिला नही, पर अपनी भावनायें और लेखनी के ज़रिए उस तक पहुँचने की कोशिश की है, जो इसे और खाश बनाती है. आशा है मेरी ये प्रयास आपलोगों को पसंद आएगी. एक मेरे जैसे लिखने वालों के लिए आप सब ही प्रेरणादायक है जिससे मैं प्रोत्साहित होता हूँ. आप सब से मेरी गुज़ारिश है कि ये किताब को प्री-ऑर्डर करें और मुझे मेरी पहली किताब को प्रकाशित होने में मुझे अपना योगदान दे, जो मेरे लिए बहुत बड़ी बात होगी. आभार:प्रियमSri

Who is this book for?

This book is about one girl's beauty who is so beautiful and poet thoughts about her cuteness and write and define everything about her.

She is more gorgeous and lovely girl who is so important in poet's life and he thought to write this book about her. Poet did not meet so far and planning to write his piece on her.

Why are you writing it?

Poet defines her beauty in his poem and Shayaris and wanna publish.